Categories
poetry

महंगे सपने | Expensive Dreams

दिल थोड़ा टूट-सा गया था,
आज रात, घबराइए मत-
अब इसे संभाल लिए है|

थोड़ा-सा टूटा, थोड़ी
आंख भर आईं,
सच बताऊँ तो,
थोड़ा रोने का मन
तो अब भी है|

ना जाने एक
दर्द-सा है सीने
में, थोड़ा बताने
की कोशिश करी

उन्हें-बस थोड़ा ही,
शायद आज इस
दर्द के साथ ही सोना
होगा, अगर नींद

आई तो-अपने
पुराने सपनों को
जो याद कर लिया
थोड़ा-सा-यह
सपने बहुत महंगे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *