Categories
rants

fighting instant gratification

i am not sure about the timeline, as in when this started but off late – for many many many years. this has been going on. these cycles of instant gratification. the cycle of constantly chasing something, constantly trying to be somewhere and fighting with your inner self. the cycles of instant gratifaction make me […]

Categories
poetry

महंगे सपने | Expensive Dreams

दिल थोड़ा टूट-सा गया था,आज रात, घबराइए मत-अब इसे संभाल लिए है| थोड़ा-सा टूटा, थोड़ीआंख भर आईं,सच बताऊँ तो,थोड़ा रोने का मनतो अब भी है| ना जाने एकदर्द-सा है सीनेमें, थोड़ा बतानेकी कोशिश करी उन्हें-बस थोड़ा ही,शायद आज इसदर्द के साथ ही सोनाहोगा, अगर नींद आई तो-अपनेपुराने सपनों कोजो याद कर लियाथोड़ा-सा-यहसपने बहुत महंगे है।