Categories
poetry

मैं टूट रहा हूं, मगर

कितना कुछ कहना चाहता हूं,कोशिश भी की,तुम्हे लिखने की, आज सुबहमगर शब्द कही खो गए है,कहा से शुरुआत करू,मुझे मालूम नहीं। कोशिश कर रहा हूं,की कुछ बिना कहे हीकुछ कह पाऊं,महर शब्द बिना कैसे कहूं। शायद मैंने कभी,सीखा ही नहीं,ईश्क करना, और मोहब्बततो शायद मेरे शब्दोंमें ही खो गई। सोचा था, कुछ होगा,मगर ऐसा होगा, […]

Close Bitnami banner
Bitnami