Tag: Poetry

  • मैं टूट रहा हूं, मगर

    कितना कुछ कहना चाहता हूं,कोशिश भी की,तुम्हे लिखने की, आज सुबहमगर शब्द कही खो गए है,कहा से शुरुआत करू,मुझे मालूम नहीं। कोशिश कर रहा हूं,की कुछ बिना कहे हीकुछ कह पाऊं,महर शब्द बिना कैसे कहूं। शायद मैंने कभी,सीखा ही नहीं,ईश्क करना, और मोहब्बततो शायद मेरे शब्दोंमें ही खो गई। सोचा था, कुछ होगा,मगर ऐसा होगा, […]

  • my own bully

    i am a good boy,i will tell you a story today,about the ying and yang, about the parts of me – which keep fighting within, about tanzim and me – about the bully and the victim. yes, i was bullied once,in school – at the basketball court,i was beaten up, left of the floor,in tears […]

  • महंगे सपने | Expensive Dreams

    दिल थोड़ा टूट-सा गया था,आज रात, घबराइए मत-अब इसे संभाल लिए है| थोड़ा-सा टूटा, थोड़ीआंख भर आईं,सच बताऊँ तो,थोड़ा रोने का मनतो अब भी है| ना जाने एकदर्द-सा है सीनेमें, थोड़ा बतानेकी कोशिश करी उन्हें-बस थोड़ा ही,शायद आज इसदर्द के साथ ही सोनाहोगा, अगर नींद आई तो-अपनेपुराने सपनों कोजो याद कर लियाथोड़ा-सा-यहसपने बहुत महंगे है।

Close Bitnami banner
Bitnami